शतभिषा नक्षत्र


अर्थ: चिकित्सक
देव: वरूण

शतभिषा नक्षत्र के स्वामी राहु हैं। आप अगर शतभिषा नक्षत्र के जातक हैं तो बहुत साहसी एवं मजबूत विचारों वाले हैं। आप अत्यधिक सामर्थ्यवान एवं स्थिर बुद्धि के होते हैं। फिर भी कभी-कभी आप लोगों को जिद्दी और संवेदनहीन लगते हैं। शतभिषा नक्षत्र के जातक रहस्यमय एवं समृद्धशाली व्यक्ति होते हैं, जिनको अपने आस-पास के लोगों से सम्मान प्राप्त होता है। आपका व्यक्तित्व आकर्षक एवं मजबूत है। आपकी उपस्थिति प्रभावशाली होती है जो कि दूसरों को आपकी ओर आकर्षित होने को विवश करती है। प्रबल स्मरण शक्ति के कारण आपके व्यक्तित्व को और भी मजबूती मिलती है। आपमें सकारात्मक और नकारात्मक परिस्थितियों को संतुलित करने की गजब की क्षमता होती है। जीवन में खूब प्रशंसा और सम्मान पाते हैं। आप जीवन अपने सिद्धांतों पर जीते हैं उस अडिग रहते हैं और किसी भी कीमत पर उनसे समझौता नहीं करते। जो कार्य को आप उचित नहीं लगता वह कार्य आप नहीं करते हैं। चाहे इसके कारण आपको नुकसान ही क्यों न उठाना पड़े। आप बहुत ही उदार होते हैं, इसी स्वभाव के कारण सदा दूसरों की मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। आप इश्वर में पूर्ण आस्था रखते हैं। आपके कार्य के लिए उपयुक्त क्षेत्रों की बात करें तो लेखक, लिपिकीय कार्य, सचिव, फिल्म और टेलीविजन, औषधि संबंधी कार्य, दवा विक्रेता और मोटर उद्योग प्रमुख हैं। इन क्षेत्रों में आपका कार्य करना आपके लिए लाभप्रद होगा। आकर्षित व्यक्तित्व के धनी होने से आपसे आकर्षित हुए बिना कोई नहीं रह पाता। इसी आकर्षण के कारण आप विपरीत लिंग में काफी प्रिय होते हैं। परंतु शतभिषा जातकों का दांपत्य जीवन सुखमय नहीं होता है। इसकी प्रबल संभावना होती है कि सब कुछ होते हुए भी आपका अपने जीवन साथी के साथ मतभेद रहे।

27 नक्षत्रों के नाम इस प्रकार हैं:

आज का पंचांग

आज का पंचांग

आज का पंचांग यानि दैनिक पंचांग अंग्रेंजी में Daily Panchang भी कह सकते हैं। दिन की शुरुआत अच्छी हो, जो ...

और पढ़ें
आज की तिथि

आज की तिथि

तिथि पंचांग का सबसे मुख्य अंग है यह हिंदू चंद्रमास का एक दिन होता है। तिथि के आधार पर ही सभी...

और पढ़ें
आज का दिन

आज का दिन

सप्ताह के प्रत्येक दिवस को वार के रूप में जाना जाता है। वार पंचांग के गठन में अगली कड़ी है। एक सूर्योदय से ...

और पढ़ें
आज का शुभ मुहूर्त

आज का शुभ मुहूर्त

पंच मुहूर्त में शुभ मुहूर्त, या शुभ समय, वह समय अवधि जिसमें ग्रह और नक्षत्र मूल निवासी के लिए अच्छे या...

और पढ़ें
आज का नक्षत्र

आज का नक्षत्र

पंचांग में नक्षत्र का विशेष स्थान है। वैदिक ज्योतिष में किसी भी शुभ कार्य को करने से पूर्व नक्षत्रों को देखा जाता है।...

और पढ़ें
आज का चौघड़िया

आज का चौघड़िया

चौघड़िया वैदिक पंचांग का एक रूप है। यदि कभी किसी कार्य के लिए शुभ मुहूर्त नहीं निकल पा रहा हो या कार्य को ...

और पढ़ें
आज का राहु काल

आज का राहु काल

राहुकाल भारतीय वैदिक पंचांग में एक विशिष्ट अवधि है जो दैनिक आधार पर होती है। यह समय किसी भी विशेष...

और पढ़ें
आज का शुभ होरा

आज का शुभ होरा

वैदिक ज्योतिष दिन के प्रत्येक घंटे को होरा के रूप में परिभाषित करता है। पाश्चात्य घड़ी की तरह ही, हिंदू वैदिक ...

और पढ़ें
आज का शुभ योग

आज का शुभ योग

पंचांग की रचना में योग का महात्वपूर्ण स्थान है। पंचांग योग ज्योतिषाचार्यों को सही तिथि व समय की गणना करने में...

और पढ़ें
आज के करण

आज के करण

वैदिक ज्योतिष के अनुसार व्रत, पर्व को निर्धारित करने में पंचांग और मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान है। इनके बिना, हिंदू ...

और पढ़ें
पर्व और त्यौहार

पर्व और त्यौहार

त्यौहार हमारे जीवन का अहम हिस्सा हैं, त्यौहारों में हमारी संस्कृति की महकती है। त्यौहार जीवन का उल्लास हैं त्यौहार...

और पढ़ें
राशि

राशि

वैदिक ज्योतिष में राशि का विशेष स्थान है ही साथ ही हमारे जीवन में भी राशि महत्वपूर्ण स्थान रखती है। ज्योतिष...

और पढ़ें


Chat Now for Support