24 जून को इन ग्रहों का हो रहा संरेखण, इस सदी की सबसे बड़ी ज्योतिषीय घटना

bell icon Thu, Jun 23, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
24 जून को इन ग्रहों का हो रहा संरेखण, इस सदी की सबसे बड़ी ज्योतिषीय घटना

यह ज्योतिषीय व खगोलीय घटना बहुत ही अनोखी है जब एक साथ सौर मंडल में सात ग्रह संरेखित होंगे। जिसका हम सभी पर गहरा असर पड़ने वाला है। इस लेख में हम ग्रह संरेखण के जुड़ी ज्योतिषीय आकलन के साथ ही उपाय भी बताने जा रहे हैं, जो आपके लिए काफी लाभप्रद साबित होंगे।

इस माह 24 जून 2022 को एक भव्य वैदिक ज्योतिष व खगोलीय घटना घटित होने जा रहा है। इस घटना में कई ग्रह एक संरेखण में आ रहे हैं। यह मनोरम दृश्य प्रातःकाल आकाश में नंगी आंखों से देखा जा सकेगा। हमें केवल नेपच्यून और यूरेनस के लिए दूरबीनों की आवश्यकता होगी और अन्य सभी ठीक आपके सामने होंगे।

खगो‍लीय घटना के अनुसार यह कोई साधारण घटना नहीं है। कुछ ऐसा ही 6 मई 2492 को फिर से घटित होगा जब 8 ग्रह संरेखित होंगे। इससे पहले 8 सितंबर 2040 को बुधशुक्रमंगल, बृहस्पतिशनि समेत 5 ग्रह एक साथ होंगे। यह न केवल वैज्ञानिक और फोटोग्राफरों के लिए रुचि की एक खगोलीय घटना होगी बल्कि एक महान ज्योतिषीय घटना भी होगी क्योंकि यह अद्वितीय ग्रह संरेखण सभी 12 राशियों को प्रभावित करेगा। यह घटना अत्यंत शक्तिशाली होगी और हमारे पूरे तारा मंडल को भी बड़े पैमाने पर प्रभावित करेगी।

व्यक्तिगत तौर पर जानना चाहते हैं कि इस ग्रह संरेखण का आपके जीवन पर कैसा प्रभाव पड़ेगा, अभी बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से।

मेदिनी ज्योतिष के अनुसार, अगले 2 महीने भूकंप, तूफान, सुनामी, हवाई जहाज दुर्घटनाएं, कई देशों के बीच युद्ध, शेयर बाजार में गिरावट, पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी और  वैश्विक स्तर पर बढ़ती मुद्रास्फीति के साथ थोड़े कठिन समय होंगे। उच्च अपराध दर के साथ वैश्विक अशांति हो सकती है। विश्व युद्ध की भी संभावना है लेकिन अगर ऐसा होता है तो निश्चित रूप से भारत एक महाशक्ति और एक शांति राजदूत के रूप में सामने आएगा। यूरोप बुरी तरह प्रभावित होगा क्योंकि मेदिनी ज्योतिष में यूरोप मेष राशि के लिए है और शनि वक्री और नीच में होने से इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। हमारे पास पहले से ही यूक्रेन और रूस की अशांति से लेकर कोरोना वायरस तक बहुत कुछ है, जो सभी चीजों को धीमा कर रहा है।

इसका असर कमोबेश 141 दिनों तक रहेगा। ये 141 दिन अपने आप पर काम करने, आत्म-अनुशासन, संगठित होने, आत्म-सुधार और अपने जीवन में संरचना जोड़ने के दिन होंगे। राशियों पर इस अद्वितीय ग्रहों की गति के प्रभाव को देखने के लिए हमें कई गोचरों और सभी ग्रहों की स्थिति को देखना पड़ा क्योंकि इस घटना में कई ग्रह शामिल हैं ताकि हम आपको एक बहुत ही सरल और कॉम्पैक्ट भविष्यवाणी दे सकें।

राशि चक्र पर इस ग्रह संरेखण का प्रभाव

आइए अब देखते हैं वैदिक ज्योतिष के अनुसार इस ग्रह संरेखण का बारह राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा -

मेष राशि के ग्रह संरेखण का प्रभाव: समय स्वयं पर कार्य करने का है

मेष राशि के लोगों को अपने दैनिक जीवन में तत्काल आधार पर योजना बनाने की आवश्यकता होगी। अगर बीच में कुछ रह गया था या आधा अधूरा छूट गया है तो यह समय इसे पूरा करने का है। शनि आपको ऐसा करने के लिए मजबूर करेगा, वास्तव में आपको इसे करने के लिए तैयार रहना होगा। यह सब केवल आपको बढ़ने या लाभ में मदद करने के लिए है जैसा कि 17 जुलाई 2023 को जब शनि स्थायी रूप से कुंभ राशि में गोचर कर जाएगा। आपको अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता है क्योंकि आप लंबे समय से इसकी अनदेखी कर रहे हैं क्योंकि स्पष्ट रूप से ग्रह के पहलू अच्छे नहीं हैं। मेष राशि वालों समय आपके लिए बहुत तेजी से दौड़ रहा है लेकिन ग्रहों की चाल के कारण चीजें आपके लिए धीमी हो जाएंगी, इसलिए जीवन धीमा और स्थिर रहेगा लेकिन आपको इसकी आदत डालने की जरूरत है। कुल मिलाकर यह अच्छी बात है क्योंकि बहुत सारी बातें आपके उठने वाली रही हैं। 

उपाय: हनुमान चालीसा का पाठ प्रतिदिन करें।

वृषभ राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: स्वास्थ्य पर ध्यान दें

वृषभ राशि के जातकों को इस ग्रह संरेखण के दौरान अपने माता-पिता, विशेषकर उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है। शनि यहां योग कारक है। आपकी विदेश यात्रा बदल सकती हैं या रद्द हो सकती हैं। यह ग्रह चाल वृषभ राशि के लोगों के लिए अच्छी है। आप अपने भाग्य का पुनर्गठन करेंगे। संबंधों को लेकर आप कुछ बड़ा निर्णय ले सकते है। अच्छा समय आगे है और चलते रहो जैसे तुम सही रास्ते पर हो।

उपाय: प्रतिदिन शनि चालीसा का पाठ करें।

मिथुन राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: अपने काम पर ध्यान दें

मिथुन जातकों के लिए शनि इस समय भाग्य स्वामी है। आपके लिए आध्यात्मिक जीवन में तेजी आएगी और आप तीर्थ यात्रा पर जा सकते हैं। आपके जीवनसाथी के वित्त में बड़ा बदलाव आएगा और आपके ससुराल वालों के साथ संबंध भी प्रभावशाली होंगे। आप योग, ध्यान में अपना समय लगा सकते है। आप ऐसे मोड पर होंगे जहां आपको तय करना होगा कि आगे क्या करना है। इसके साथ ही आप अपने जीवन के बारे में विस्तार से सोचेंगे जो बहुत अच्छा है क्योंकि आपका आत्मनिरीक्षण जीवन में स्वस्थ परिवर्तनों का संकेत दे रहा है। इससे आपको लाभ होता दिखायी दे रहा है।

उपाय: महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

कर्क राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: विवाद से बचें

कर्क लग्न के लोगों के लिए चंद्रमा इस समय स्वामी है जो उन्हें बहुत भावुक बना सकता है। पारिवारिक संपत्ति के चलते विवाद हो सकते हैं, परंतु आप इन्हें भी सुलझा लेंगे। जो सभी हितधारकों के साथ बिंदुओं पर चर्चा करके और बीच के रास्ते पर पहुंचकर तय किया जाएगा। यदि आप ज्योतिष या कोई अन्य गूढ़ विज्ञान सीख रहे हैं तो आप यहां अच्छा कर सकते हैं। आप गहन शोध करेंगे, अपनी मूल बातें स्पष्ट करेंगे और उड़ते हुए रंगों के साथ सामने आएंगे। यह ग्रह संरेखण विद्यार्थी जातकों के लिए सही रहने वाला है। शिक्षा में आगे बढ़ेंगे।

उपाय: ओम का जाप करें।

सिंह राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: सतर्क रहने का समय

सिंह राशि के जातकों के लिए भागीदारों के साथ संघर्ष सुलझ जाएगा। आप समाधान और समापन पर पहुंचेंगे। आप नए सिरे से और सीधे सोचने में सक्षम होंगे। इम्युनिटी लेवल नीचे जा सकता है, इसलिए आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरूरत है। कृपया जान लें कि बंद या संघर्ष प्रबंधन की कुंजी यह नहीं है कि प्रतिद्वंद्वी बदल गया है या उसका दृष्टिकोण बदल गया है, बल्कि यह है कि ग्रहों के परिवर्तन के कारण, आप धीमा हो गए हैं, और सोचने के लिए रुक गए हैं और इसलिए क्रमबद्ध हैं

उपाय: सुंदरकांड पाठ का जाप करें।

कन्या राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: समय आत्मनिरीक्षण का है 

कन्या राशि के जातकों के लिए उनका प्रेम जीवन और पारिवारिक जीवन उन पर हावी रहेगा। आप अपने परिवार के सदस्यों, खासकर बच्चों के साथ काफी समय बिताएंगे। यह कन्या राशि वालों के लिए एक उपचार और कायाकल्प करने वाला समय साबित हो सकता है। कन्या एक पृथ्वी तत्व राशि है। तो यह हमेशा स्थिरता देता है। तो आपका जीवन आपको अभी अत्यधिक स्थिरता और सुरक्षा प्रदान करेगा और सुखी पारिवारिक जीवन इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इसके साथ ही करियर पर आपका स्थिर रहेगा। इसकी पूरा संभावना दिखायी दे रही है।

उपाय: अपने घर में बुध यंत्र लगाएं।

तुला राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: संबंधों पर ध्यान दें

तुला राशि के लिए खगोलीय घटना सामान्य रहने वाला है। आप इस समय अपने बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए काम कर रहे होंगे, उन्हें अनुशासित करने और उन्हें अच्छी शिक्षा देने की कोशिश करेंगे। आप अपने जीवन में और अधिक आराम पाने की दिशा में भी काम करेंगे जो न केवल भौतिकवादी चीजें होंगी बल्कि जीवन के नरम पहलू भी होंगे। आप स्वास्थ्य, योग, ध्यान, पोषण और जीवन में सही चीजों को अधिक महत्व देंगे। इसके साथ ही आप अपने करियर पर ध्यान देंगे।

उपाय: घर में शुक्र यंत्र लगाएं।

वृश्चिक राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: अपने क्रोध को नियंत्रण में रखें

वृश्चिक राशि के जातकों पर इस समय मंगल का प्रभुत्व रहने वाला है। आप ग्रह संरेखण के दौरान नए लोगों से मिलेंगे और नेटवर्किंग करेंगे जो आपके लिए काफी सार्थक और फायदेमंद साबित होगा। आप इस समय कई छोटी यात्राएं भी कर सकते हैं। जो ज्यादातर काम के लिए होंगी न कि केवल आनंद के लिए। इसके अलावा व्यापारी जातक इस समय अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कार्य करेंगे। व्यापार में लाभ होगा। इसके साथ ही आपको पूर्व में किए गए निवेश से लाभ हो सकता है।

उपाय: हनुमान जी की पूजा करें।

धनु राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: कार्यों को समय पर पूरा करने का प्रयास करें

धनु राशि के लोगों के लिए अग्नि पंच भूत है और गुरु बृहस्पति का आप पर प्रभुत्व है। इस अवधि में आप जातकों के लिए बृहस्पति मार्गदर्शक साबित होगा। आपको गुरू सही चीजों के लिए पुरस्कृत करेगा और गलत के लिए आपको फटकार लगाकर ज्ञान देगा, ताकि आप सही सबक सीख सकें। भले ही यह कठिन तरीका है परंतु यह आपके लिए लाभप्रद ही रहने वाला है। अच्छा समय कीमत के साथ आता है। शनि इस समय आप पर कठोर हो सकता है, इसलिए आपको इस समय अपने कार्य पर और व्यवहार पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

उपाय: प्रतिदिन शनि चालीसा का पाठ करें।

मकर राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: करियर पर ध्यान दें

मकर राशि के लिए शनि इस समय स्वामी की भूमिका में हैं और इसलिए ये मित्रवत हैं। आप इस समय सात्विक होंगे। आप अपने कर्म को संतुलन में लाने के लिए बहुत मेहनत करेंगे। कार्य को समय पर खत्म करने का प्रयास करेंगे। इस समय में आप अपने वित्त को लेकर सजग रहेंगे। बचत पर आपका ध्यान अधिक होगा और आप अपना बैंक बैलेंस बढ़ाएंगे। यह समय है कि आप परिवार के विस्तारित सदस्यों से जुड़ें और एक दूसरे की मदद और समर्थन करें। करियर को स्थिर रखने के लिए कार्यस्थल पर विवाद में पड़ने से बचें।

उपाय: शनिवार के दिन काली दाल का दान करें।

कुंभ राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: आत्म मुल्यांकन का समय

कुंभ लग्न के जातकों वायु तत्व के हैं और शनि राशि का स्वामी है। इस समय संबंधों में कुछ खटास आ सकती है। यहां तक की शादीशुदा जातक अलगाव के मार्ग तक जा सकते हैं। ऐसे में आपको इस समय सावधान रहने की आवश्यकता है। इसके चलते आप तनाव में आ सकते हैं। एकांत आपके लिए संजीवनी का काम कर सकता है। एकांत हमें विकास के लिए आवश्यक अवसर प्रदान करता है क्योंकि हमें सोचने, आत्मनिरीक्षण करने और पुनर्मूल्यांकन करने का समय मिलता है। विदेश यात्रा लाभदायक और शुभ भी होगी।

उपाय: गुरुवार के दिन जल दान करें।

मीन राशि पर ग्रह संरेखण का प्रभाव: स्वास्थ्य पर ध्यान दें

मीन लग्न के लिए जल पंचभूत तत्व है और गुरु बृहस्पति का आप पर प्रभाव रहने वाला है। इस समय आप समाज को अधिक महत्व देंगे। लोग या समाज क्या कहेंगे, आप उसे बहुत अधिक ध्यान देंगे। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं, इसलिए आपको सावधान रहने और स्वास्थ्य जांच कराने की आवश्यकता है। खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूर है। इस ग्रह संरेखण से आप अपने कार्यों को सही तरीके से करने में सक्षम होंगे।

उपाय: पक्षियों को प्रतिदिन बाजरा डालें और उनके लिए पानी रखें।  

ग्रह संरेखण का आपके व्यक्तित्व व स्वभाव पर कैसा असर पड़ेगा जानने के लिए अभी टैरो पूजा से संपर्क करें। बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

लेखक- टैरो पूजा, अंतर्राष्ट्रीय सेलिब्रिटी गुरु

chat Support Chat now for Support
chat Support Support