Skip Navigation Links
एकादशी 2018 - कब कब हैं एकादशी तिथि


एकादशी 2018 - कब कब हैं एकादशी तिथि

हिंदू धर्म में एकादशी तिथि बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि मानी जाती है। प्रत्येक मास में एकादशी तिथि दो बार आती है। इसके अनुसार प्रत्येक वर्ष में 24 एकादशी व्रत तिथियां आती हैं। लेकिन अधिक मास की एकादशियों के साथ इनकी संख्या 26 हो जाती है।


एकादशी की उत्पत्ति

एकादशी व्रत का आरंभ उत्पन्न एकादशी को माना जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार मुर नामक दैत्य ने बहुत आतंक मचा रखा था यहां तक कि स्वयं विष्णु ने भी उसके साथ युद्ध किया लेकिन लड़ते लड़ते उन्हें नींद आने लगी और युद्ध किसी नतीजे पर नहीं पंहुचा, जब विष्णु शयन के लिये चले गये तो मुर ने मौके का फायदा उठाना चाहा लेकिन भगवान विष्णु से ही एक देवी प्रकट हुई और उन्होंने मुर के साथ युद्ध आरंभ कर दिया। इस युद्ध में मुर मूर्छित हो गया जिसके पश्चात उसका सिर धड़ से अलग कर दिया। वह तिथि मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी की तिथि थी। मान्यता है कि भगवान विष्णु से एकादशी ने वरदान मांगा था कि जो भी एकादशी का व्रत करेगा उसका कल्याण होगा, मोक्ष की प्राप्ति होगी। तभी से प्रत्येक मास की एकादशी का व्रत की परंपरा आरंभ हुई।


प्रमुख एकादशी व्रत

वैसे तो सभी एकादशी व्रत पुण्य फलदायी और मोक्ष प्रदान करने वाले होते हैं फिर भी कुछ एकादशियां बहुत ही कल्याणकारी मानी जाती हैं। इनमें ज्येष्ठ मास शुक्ल पक्ष में आने वाली निर्जला एकादशी एवं कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली देवोत्थान एकादशी बहुत ही अधिक सौभाग्यशाली मानी जाती हैं।


एकादशी व्रत 2018 में कब हैं 

षटतिला एकादशी (माघ कृष्ण एकादशी) – शुक्रवार, 12 जनवरी 2018

जया एकादशी (माघ शुक्ल एकादशी) – शनिवार, 27 जनवरी 2018

विजया एकादशी (फाल्गुन कृष्ण एकादशी) – रविवार, 11 फरवरी 2018

आमलकी एकादशी (फाल्गुन शुक्ल एकादशी) – सोमवार, 26 फरवरी 2018

पाप मोचिनी एकादशी (चैत्र कृष्ण एकादशी) – मंगलवार, 13 मार्च 2018

कामदा एकादशी (चैत्र शुक्ल एकादशी) – मंगलवार, 27 मार्च 2018

वरुथिनी एकादशी (वैशाख कृष्ण एकादशी) – बृहस्पतिवार, 12 अप्रैल 2018

मोहिनी एकादशी (वैशाख शुक्ल एकादशी) – बृहस्पतिवार, 26 अप्रैल 2018

अपरा एकादशी (ज्येष्ठ कृष्ण एकादशी) – शुक्रवार, 11 मई 2018

पद्मिनी एकादशी (ज्येष्ठ अधिक मास शुक्ल एकादशी) – शुक्रवार, 25 मई 2018

परम एकादशी (ज्येष्ठ अधिक मास कृष्ण एकादशी) – रविवार, 10 जून 2018

निर्जला एकादशी (ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी) – शनिवार, 23 जून 2018

योगिनी एकादशी (आषाढ़ कृष्ण एकादशी) – सोमवार, 9 जुलाई 2018

देवशयनी एकादशी (आषाढ़ शुक्ल एकादशी) – सोमवार, 23 जुलाई 2018

कामिका एकादशी (श्रावण कृष्ण एकादशी) – मंगलवार, 7 अगस्त 2018

श्रावण पुत्रदा एकादशी (श्रावण शुक्ल एकादशी) – बुधवार, 22 अगस्त 2018

अजा एकादशी (भाद्रपद कृष्ण एकादशी) – बृहस्पतिवार, 6 सितंबर 2018

परिवर्तिनी/पार्श्व एकादशी (भाद्रपद शुक्ल एकादशी) – बृहस्पतिवार, 20 सितंबर 2018

इंदिरा एकादशी (आश्विन कृष्ण एकादशी) – शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2018

पापांकुश एकादशी (आश्विन शुक्ल एकादशी) – शनिवार, 20 अक्तूबर 2018

रमा एकादशी (कार्तिक कृष्ण एकादशी) – शनिवार, 3 नवंबर 2018

प्रबोधिनी/देवउठनी/देवोत्थान एकादशी (कार्तिक शुक्ल एकादशी) – सोमवार, 19 नवंबर 2018

उत्पन्ना एकादशी (मार्गशीर्ष कृष्ण एकादशी) – सोमवार, 3 दिसंबर 2018

मोक्षदा एकादशी (मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी) – मंगलवार, 18 दिसंबर 2018


2018 में अधिक मास एकादशी व्रत

ज्येष्ठ मास में इस वर्ष अधिक मास आरंभ होगा जो कि 16 मई से 13 जून तक रहेगा। ज्येष्ठ मास की शुरुआत 30 अप्रैल से होगी व यह 27 जून को समाप्त होगा। अधिक मास की एकादशियां 25 मई व 10 जून को हैं। 25 मई की एकादशी पद्मिनी एकादशी है तो 10 जून की एकादशी परम एकादशी।

एकादशी पर सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

योगिनी एकादशी   |   निर्जला एकादशी   |   कामदा एकादशी   |   पापमोचिनी एकादशी   |   कामिका एकादशी का व्रत   |   इंदिरा एकादशी 

मोक्षदा एकादशी   |   विजया एकादशी   |   जया एकादशी   |   रमा एकादशी   |  सफला एकादशी   |   पौष पुत्रदा एकादशी

उत्पन्ना एकादशी   |      ।   आमलकी एकादशी   |   वरुथिनी एकादशी   |   मोहिनी एकादशी   |   देवशयनी एकादशी

श्रावण शुक्ल एकादशी   |   अजा एकादशी   |   परिवर्तिनी एकादशी




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...