मिथुन राशि में बुध! स्वराशि में बुध किनके लिये हैं शुभ? जानिए

वाणी के कारक बुध का परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये से काफी अहम माना जाता है। लग्न के अनुसार बुध जिस लग्न से जिस भाव में गोचररत होते हैं उस के अनुसार सकारात्मक व नकारात्मक परिणाम देने वाले होते हैं। 21 जून को बुध का परिवर्तन मिथुन राशि से कर्क राशि में हुआ था। 8 जुलाई को बुध की चाल में परिवर्तन हुआ जिसके पश्चात वह वक्री हो गए। अब वक्री अवस्था में ही बुध मिथुन राशि में प्रवेश कर रहे हैं जहां पर राहू पहले से विराजमान हैं। हालांकि जल्द ही 1 अगस्त को बुध मार्गी हो जाएगें और 3 अगस्त को फिर से कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगें। ऐसे में बहुत थोड़े समय के लिये ही बुध मिथुन राशि में रहने वाले हैं। ऐसे में जानिए किन राशियों पर स्वराशि के बुध अपनी कृपा बरसाएंगें।

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। बुध का यह गोचर आपकी कुंडली के अनुसार नेगेटिव है या पोजीटिव? गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

मिथुन राशि में बुध का गोचर

मेष

मेष राशि से बुध का परिवर्तन पराक्रम भाव में हो रहा है। बुध का यह परिवर्तन आपके लिये मिलेजुले परिणाम लेकर आ सकता है। एक ओर जहां आपको अपनी मेहनत का फल इस समय मिल सकता है तो वहीं दूसरी ओर सफलता प्राप्ति के लिये आपको प्रयास भी खूब करने पड़ेंगें। इस समय लोगों से बातचीत करते समय शब्दों का इस्तेमाल थोड़ा ध्यान से करें। विशेषकर कार्यस्थल पर फिजूल की बातों, गोस्सिप आदि का हिस्सा न बनें। विरोधियों पर भी नज़र जमाए रखें।

 

वृषभ

वृषभ राशि से बुध का परिवर्तन द्वितीय भाव में हो रहा है जो कि अचानक धन का योग भी बनाता है। अष्टम दृष्टि रहने से मानसिक तौर पर थोड़ा तनाव महसूस कर सकते हैं लेकिन योग व ध्यान क्रियाओं से आपको लाभ मिल सकता है। रोमांटिक लाइफ में हालात काफी बेहतर रह सकते हैं। आपके प्रेम संबंधों में मधुरता आयेगी। लंबे समय से चली आ रही दूरियां भी इस समय मिटाई जा सकती हैं।

 

मिथुन

मिथुन राशि में बुध का प्रवेश स्वराशि में प्रवेश है। मन और बुद्धि में नया ओज़ नई चमक दिखाई देगी। कार्य करने में मन लगा रहेगा। इस समय अपनी वाणी के प्रभाव से आप किसी का भी दिल जीत सकते हैं। किसी भी क्षेत्र में आपकी बात को ऊपर रखा जाएगा। दांपत्य जीवन में भी कुछ समय तक मधुरता बनी रहने के संकेत हैं। माता के प्रेम व सुख में वृद्धि हो सकती है।

 

कर्क

कर्क राशि से बुध का परिवर्तन 12वां है। कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा के साथ भी बुध की कुछ खास नहीं बनती। आपके लिये बुध का यह परिवर्तन खर्च बढ़ने के संकेत कर रहा है। अपनी फिटनेस का भी ध्यान रखें। स्वच्छता पर भी ध्यान देने की आवश्यकता आपको रहेगी। हालांकि इस समय आप थोड़ी थकान महसूस कर सकते हैं लेकिन डेली रूटीन में व्यायाम व सैर सपाटे के लिये थोड़ा समय निकालेंगें तो आपको काफी राहत मिल सकती है।

 

सिंह

सिंह राशि में बुध का परिवर्तन लाभ घर में हो रहा है। आपके रूके हुए कार्यों में अचानक तेजी आ सकती है। आपकी मेहनत रंग लाएगी साथ ही किस्मत का साथ भी आपको मिलेगा जिससे आप लाभ की स्थिति में रहेंगें। हालांकि नौकरीशुदा जातकों पर काम का दबाव रह सकता है लेकिन यह भी तय है कि यदि आप इस समय मन लगाकर काम करेंगें तो भविष्य में आपके मान-सम्मान, पद व प्रतिष्ठा में वृद्धि भी होगी।

 

कन्या

कन्या राशि के स्वामी स्वयं बुध हैं जो आपकी राशि से दशम घर में आ रहे हैं। जो कि आपका कर्म भाव है। कार्यक्षेत्र में लंबे समय से बड़े अधिकारियों का दबाव कुछ समय के लिये कम हो सकता है लेकिन इसका यह अभिप्राय नहीं है कि आप अपने काम के प्रति लापरवाह हो जाएं। लापरवाही या सुस्ती दिखाएंगें तो कार्यस्थल पर आपकी छवि थोड़ी धूमिल हो सकती है। भरपूर ऊर्जा व स्फूर्ति के साथ काम करें आपको इसका लाभ अवश्य मिलेगा।

 

तुला

तुला राशि से बुध का परिवर्तन भाग्य स्थान में हो रहा है। आपके लिये यह समय सौभाग्यशाली रहने के संकेत हैं। विशेषकर मीडिया, सिनेमा, रंगमंच, संगीत, साहित्य आदि कला क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये यह समय काफी रचनात्मक कहा जा सकता है। इस समय आप अपनी किसी प्रस्तुति, किसी रचना आदि से विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं। हालांकि खर्च बढ़ने के योग भी आपके लिये बन रहे हैं फिजूल खर्ची से जितना हो सके बचने का प्रयास करें।

 

वृश्चिक

वृश्चिक राशि से बुध का परिवर्तन आठवें घर में हो रहा है। अष्टम भाव में बुध आपके लिये मिलाजुला समय रहने के संकेत कर रहे हैं। पारिवारिक कलह और शारीरिक कष्ट में आराम मिलने के संकेत हैं। लाभ घर का स्वामी अष्टम भाव में जाने से कुछ समय तक लाभ की आशा न करें। वाणी और विचार में संयम रखें और कार्य में भी धैर्य बनाये रखें। कुछ समय बाद आपका जीवन सामान्य बना रहेगा।

 

धनु

धनु राशि से बुध का परिवर्तन सप्तम घर में हो रहा है। दांपत्य जीवन मे चल रही उथल-पुथल शांत होने का समय है। अगर किसी तरह के कम्यूनिकेशन गैप की वजह से रिलेशनशिप प्रोबल्म में चल रही है तो इसका समाधान भी इस समय निकल सकता है। व्यवसायी जातकों के लिये भी समय शुभ रहने की उम्मीद की जा सकती है।

 

मकर

मकर राशि से बुध का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है। छठे स्थान में बुध आपके लिये मिलेजुले परिणाम लेकर आ सकते हैं। प्रतियोगी प्रतिस्पर्धाओं, साक्षात्कार आदि में आपको सफलता मिल सकती है बशर्ते पूरी तैयारी के साथ जाएं। व्यवसायी जातक भी अपने प्रतिद्वंदियों द्वारा दी जा रही चुनौतियों का सामना करने में समर्थ रह सकते हैं। भाग्य की बजाय पुरुषार्थ में विश्वास रखें।

 

कुंभ

कुंभ राशि से बुध का परिवर्तन पांचवें घर में होगा। रोमांटिक लाइफ अच्छी रहने के संकेत मिल रहे हैं। जो जातक अभी तक एकांत जीवन व्यतीत कर रहे हैं उनकी मुलाकात किसी खास से हो सकती है। आपकी प्रेम कहानी के आरंभ के लिये यह समय उपयुक्त है। अपनी बातों से आप अपने दोस्त अपने पार्टनर को इंप्रेस कर सकते हैं। जिन विद्यार्थियों की परीक्षाएं नज़दीक हैं उन्हें अपनी पढ़ाई पर फोकस करने आवश्यकता रहेगी। संतानशुदा जातकों को अपने बच्चों के लिये भी कुछ अतिरिक्त समय निकालना पड़ सकता है।

 

मीन

मीन राशि से बुध का परिवर्तन चतुर्थ भाव में हो रहा है। लंबे समय से घर या गाड़ी की खरीददारी का मन बना रहे हैं तो इस समय आपको अच्छा ऑफर मिल सकता है। माता के प्रति आपका लगाव बढ़ सकता है विशेषकर जो जातक काम-काज के सिलसिले में घर से दूर रहते हैं उन्हें घर की याद सता सकती है। खान-पान का ध्यान रखें। सेहत के मामले में कोई कंप्रोमाइज न करें तो बेहतर रहेगा। रोमांटिक लाइफ अच्छी बनी रहने के आसार हैं।

 

बुध का यह गोचर आपकी कुंडली के अनुसार नेगेटिव है या पोजीटिव? गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2019   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |  बुध गोचर 2019

 

एस्ट्रो लेख

सावन अमावस्या 2...

अमावस्या तिथि बहुत मायने रखती है। हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष का यह अंतिम दिन होता है। अमावस्या की रात्रि को चंद्रमा घटते-घटते बिल्कुल लुप्त हो जाता है। सूर्य ग्रहण जैसी खगोल...

और पढ़ें ➜

सावन शिवरात्रि ...

 सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते है...

और पढ़ें ➜

सावन का दूसरा स...

सावन का पूरा महिना भगवान शिव की अराधना का महिना होता है। इस महिने में शिव पूजा, जलाभिषेक करने से अत्यंत लाभदायक फल इंसान को मिलते हैं। जिनका अपना अपना महत्व होता है। 2019 के सावन क...

और पढ़ें ➜

सावन 2019 में ब...

हिन्दू पंचांग में श्रावण मास सबसे पवित्र मासों में से एक है। यह माह प्रभु शिव को समर्पित है और इस पावन अवसर पर बड़ी तादात में शिव भक्त देश-विदेश के शिव मंदिरों में जाकर उनके शिवलिंग...

और पढ़ें ➜