शुक्र का सिंह राशि में गोचर – क्या रहेगा आपका राशिफल?

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति में भी बदलाव आता है और इस बदलाव के अनुसार व अन्य शुभाशुभ ग्रहों के साथ युति से कुंडली में फलादेश भी प्रभावित होता है। शुक्र लगभग एक महीने तक ही किसी राशि में रहते हैं। इसलिये कुछ समय या कहें जितने समय तक शुक्र जिस भाव में रहते हैं उस स्थान के अनुसार जातक का भविष्यफल भी प्रभावित होता है। शुक्र का परिवर्तन 16 अगस्त को हो रहा है। इस समय शुक्र कर्क राशि से सिंह में प्रवेश करेंगें। आइये जानते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार शुक्र का यह परिवर्तन सभी 12 राशियों के लिये क्या परिणाम लेकर आ सकता है।

 

मेष – शुक्र के इस परिवर्तन से आपकी राशि से पंचम स्थान में शुक्र प्रवेश करेंगें। यह समय संतान पक्ष की ओर से आपको संतुष्टि देने वाला रह सकता है। शिक्षार्थी जातकों के लिये भी समय लाभदायक रहने के आसार बन रहे हैं। कामकाज की बात करें तो आपके मान-सम्मान में वृद्धि के योग बन रहे हैं। जो विवाहित जातक लंबे समय से संतान प्राप्ति के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी सफलता मिल सकती है।

वृषभ – शुक्र परिवर्तन के साथ ही आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचररत होंगें। यह समय आपके लिये घर, वाहन आदि का सुख मिलने के योग बना रहा है। यदि पिछले कुछ समय से नया घर या नई गाड़ी लेने का विचार बना रहे हैं तो इस समय बात बन सकती है। राजनीति से जुड़े जातकों के लिये भी समय अच्छे संकेत कर रहा है। आपके उद्देश्यों के लिये आपको जनता का समर्थन प्राप्त हो सकता है। हालांकि माता के स्वास्थ्य को लेकर आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है उनकी देखभाल अच्छे से करें।

आपकी कुंडली में शुक्र की स्थिति कैसी है व शुक्र कैसे आपको प्रभावित कर रहे हैं? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

मिथुन – आपकी राशि से शुक्र पराक्रम स्थान में प्रवेश करेंगें। यह समय अपनी कार्यक्षमता का प्रदर्शन करने का है। साथ ही पारिवारिक जीवन में भी छोटे भाई-बहनों के साथ आपके रिश्ते मधुर रहने के आसार हैं। यदि पिछले कुछ समय से उनसे मुलाकात नहीं हुई है तो इस समय उनसे मिलने के अवसर आपको प्राप्त हो सकते हैं।

कर्क – द्वितीय भाव में शुक्र का आना आपके लिये धनवृद्धि के संकेत कर रहा है। शुक्र आपके लिये नकारात्मकता को दूर करने में सहायक सिद्ध हो सकते हैं। अपने जिन करीबियों, सगे संबंधियों या दोस्तों से मिले हुए आपको लंबा समय हो चुका है उनसे मुलाकात के योग भी इस समय आपके लिये बन रहे हैं। संपत्ति संबंधी लेन-देन आपके लिये लाभकारी रहने के आसार हैं। संगीत के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये भी यह समय कल्याणकारी रह सकता है।

सिंह – शुक्र आपकी ही राशि में प्रवेश करेंगें। नये लोगों से दोस्ती बनाने, अपने व्यक्तिगत व व्यावसायिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिये यह समय बहुत ही अनुकूल रहने के आसार हैं। किसी नई वस्तु की खरीददारी भी कर सकते हैं। कामकाजी जातकों के लिये तो यह समय और अधिक सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं।

कन्या – आपकी राशि से शुक्र 12वें घर में प्रवेश करेंगें जो कि आपके व्यय का स्थान है। इस समय आपके खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। विशेषकर अपनी सुख-सुविधा को बढ़ाने के लिये किसी वस्तु की खरीददारी कर सकते हैं। खर्च किसी मांगलिक कार्य के लिये भी हो सकता है। यदि पिछले कुछ समय से कहीं घुमने का कार्यक्रम बना रहे हैं तो शुक्र का परिवर्तन आपके लिये ऐसे योग बना रहा है। अपने स्वास्थ्य को लेकर भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता है कामकाजी व्यस्तता के कारण थकावट महसूस कर सकते हैं हालांकि आंतरिक तौर पर आप उत्साह से भरे रहेंगें।

तुला – 5 जुलाई को होने वाले शुक्र के परिवर्तन से आपके लिये लाभ वृद्धि के संकेत हैं। दरअसल शुक्र आपकी राशि से लाभ स्थान में दाखिल हो रहे हैं। हालांकि आमदनी में इजाफे के साथ-साथ आपके खर्चों में भी वृद्धि होने के आसार हैं। फिजूल खर्ची की संभावनाएं प्रबल हैं बचने का प्रयास करें। मेहमान नवाजी भी आपको करनी पड़ सकती है। जिन अविवाहित जातकों के रिश्ते की बात चल रही है उनकी बात सिरे चढ़ सकती है। शुक्र के प्रभाव से भाग्य का भरपूर साथ आपको मिलने के आसार हैं।

वृश्चिक – शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से कर्मस्थान यानि दसवें घर में हो रहा है। इस समय आपको कार्यक्षेत्र में नई जिम्मेदिरयां मिल सकती हैं। व्यवसायी जातक भी किसी नई परियोजना की शुरुआत कर सकते हैं। आय प्राप्ति के नये स्त्रोत ढ़ूंढ सकते हैं। शुक्र के राशि परिवर्तन से पैतृक संपत्ति से लाभ मिलने के आसार भी आपके लिये बन रहे हैं।

धनु – आपकी राशि से भाग्य स्थान मे शुक्र गोचर करेंगें। यदि पिछले कुछ समय से किसी वस्तु को खरीदने के लिये प्रयासरत हैं तो इस समय आप उसे घर ला सकते हैं। भाग्य का साथ मिलने से सुख-समृद्धि, धन व पराक्रम में वृद्धि के आसार भी हैं। धार्मिक कार्यों की ओर भी आपका रूझान रह सकता है।

यह भी पढ़ें:  शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |  ग्रह गोचर 2019   |   शुक्र गोचर 2019

 

मकर – आपकी राशि से अष्टम भाव में शुक्र आ रहे हैं। इस समय आपको सकारात्मक परिणामों के लिये बहुत अधिक प्रयास करने की आवश्यकता होगी। अपनी मेहनत पर विश्वास करें भाग्य के भरोसे न बैठें। आपके दांपत्य जीवन में भी साथी से मनमुटाव हो सकते हैं इसलिये अपने व्यवहार में संयम रखें, फालतु के वाद-विवाद में न उलझें, न ही किसी के बहकावे में आयें। हालांकि जीवनसाथी की सेहत को लेकर भी आपको चिंतित होना पड़ सकता है। कामकाजी जीवन की दिक्कतों से भी आपकी परेशानी बढ़ सकती है। खर्चों में भी बढ़ोतरी के आसार हैं। धन की हानि होने के भी संकेत हैं। आपके लिये सलाह है कि किसी भी परिस्थिति में अपना आपा न खोयें, संयमित व्यवहार, कड़ी मेहनत और विवेकशीलता से आप इन स्थितियों से पार पा सकते हैं।

कुंभ – सप्तम भाव में शुक्र का आना आपके जीवन में काफी सकारात्मक परिवर्तन लेकर आ सकता है। अविवाहित जातकों के लिये विवाह के योग बन सकते हैं। जो जातक अपने किसी खास से दिल की बात कहना चाहते हैं उन्हें भी अपनी बात कहने का वातावरण उपलब्ध हो सकता है। प्रेम संबंधों में लिप्त जातकों के लिये भी यह समय खुशगवार रहने के आसार हैं। संतान पक्ष की ओर से भी आपको खुशखबरी मिल सकती है। हालांकि इस समय आपको अपने साथी पर विश्वास रखने की आवश्यकता होगी किसी अन्य व्यक्ति द्वारा आपके बीच दरार पैदा करने के प्रयास हो सकते हैं। हालांकि व्यवसाय के मामले में समय आपके लिये लाभकारी रहने के योग भी हैं।

मीन – छठे भाव में शुक्र का आना आपके लिये स्वास्थ्य संबंधि परेशानियों का कारण हो सकता है। साथ ही व्यावसायिक जीवन में इस समय प्रतिस्पर्धियों अथवा कार्यस्थल पर इर्ष्यालु जनों द्वारा आपके मार्ग में अड़ंगें अड़ाए जा सकते हैं। हालांकि तमाम परेशानियों से पार पाते हुए कार्यक्षेत्र में उन्नति कर सकते हैं। वर्तमान नौकरी या कार्य से असंतुष्ट जातक करियर में परिवर्तन का विचार भी बना सकते हैं। आपके रोमांटिक जीवन के लिहाज से यह समय मिलाजुला रहने के आसार हैं। 

 

 

एस्ट्रो लेख

कन्या संक्रांति...

17 सितंबर 2019 को दोपहर 12:43 बजे सूर्य, सिंह राशि से कन्या राशि में गोचर करेंगे। सूर्य का प्रत्येक माह राशि में परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस संक्रांति को स्नान, दान और ...

और पढ़ें ➜

नरेंद्र मोदी - ...

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे स्पष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच मे...

और पढ़ें ➜

विश्वकर्मा पूजा...

हिंदू धर्म में अधिकतर तीज-त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार ही मनाए जाते हैं लेकिन विश्वकर्मा पूजा एक ऐसा पर्व है जिसे भारतवर्ष में हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है। इस दिवस को भग...

और पढ़ें ➜

पितृदोष – पितृप...

कहते हैं माता-पिता के ऋण को पूरा करने का दायित्व संतान का होता है। लेकिन जब संतान माता-पिता या परिवार के बुजूर्गों की, अपने से बड़ों की उपेक्षा करने लगती है तो समझ लेना चाहिये कि अ...

और पढ़ें ➜