लोकसभा चुनाव 2019 - प्रमुख राजनेता

लोकसभा चुनाव 2019 - प्रमुख राजनेता


2019 लोकसभा का चुनावी बिगुल बज चुका है। इस बार का आम चुनाव अपने आप में बेहद रोमांचक व खास होने वाला है। बीजेपी अपने सहयोगियों को साथ लेकर एक बार फिर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व व अमित शाह की रणनीति के साथ 2019 के चुनावी रण में जा रही है। कांग्रेस भी अपने सहयोगियों के साथ राहुल गांधी के नेतृत्व में आम चुनाव 2019 के रण में जाने की तैयारी में लग चुकी है। परंतु 2019 लोकसभा चुनाव को त्रिशंकु बनाने के लिए कुछ क्षेत्रिय दल के नेता तीसरा मोर्चा खड़ा करने की जुगत में जुट गए हैं जिसमें पहला नाम तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव तथा दूसरा नाम पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का है। दोनों नेता मिलकर एक गैर बीजेपी व गैर कांग्रेसी महागठबंधन बनाने के लिए समान विचारधारा रखने वाले दलों से मिलकर साथ आने के लिए बात कर रहे हैं। इसी की तर्ज पर उत्तरप्रदेश में भी मायावती व अखिलेश ने गठबंधन कर कांग्रेस को महागठबंधन से अलग रखने की कोशिश की है। परंतु कांग्रेस इसका तोड़ निकालते हुए, प्रियंका गांधी को उत्तरप्रदेश के चुनावी रण की बागडोर सौंप दी है।

बिहार में कांग्रेस आरजेडी से गठबंधन करने में सफल हुई है, बिहार में विपक्ष का नेतृत्व तेजस्वी यादव करने वाले हैं। तो वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एनडीए के साथ नरेंद्र मोदी की अगुवाई में 2019 के चुनावी रण में जा रहे हैं। बात देश के दिल दिल्ली की करे तो यहां भी अरविंद केजरीवाल की सीधी लड़ाई बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी से है।

इस सेक्शन में 2019 के लोकसभा चुनावों में इन सभी नेताओं का प्रदर्शन कैसा रहेगा? इन्हें जनता का कितना समर्थन मिलेगा? इस पेज पर आप एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर्स द्वारा प्रमुख नेताओं के बारे में किये गये ज्योतिषीय आकलन को पढ़ सकते हैं। इनकी कुंडली के अनुसार लोकसभा चुनाव में इनके लिये क्या संभावनाएं बन रही हैं। इनके ग्रह इन्हें राजनीतिक करियर में कितना सपोर्ट कर रहे हैं? यह तमाम जानकारियां आपको यहां मिलेंगी।

अगर आप अपनी लाइफ की समस्याओं को लेकर ज्योतिषीय परामर्श लेना चाहते हैं तो एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से परामर्श ले सकते हैं। ज्योतिषी जी से बात करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें और हमें 9999091091 पर कॉल करें।

2019 लोकसभा चुनाव की प्रेडिक्शन

2019 लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद आगामी देढ़ माह में चुनावी प्रचार के दौरान नेताओं द्वारा शक्ति का खूब प्रदर्शन किया जाना है। चुनावी सभाओं में भाषण व बयानबाजी से मतदाताओं का ध्यान अकर्षित करने का प्रयास भी किया जाएगा। इस दौरान कई वादे किए जाएंगे और नेता अपनी उपलब्धि व कामों को जनता के सामने पेश करेंगे। सातों चरणों के मतदान पूरा होने तक खूब...

और पढ़ें


Chat Now for Support