के. चंद्रशेखर राव

के. चंद्रशेखर राव


केसीआर के नाम से चर्चित और 2019 लोकसभा चुनाव में थर्ड फ्रंट की पैरोकारी करने वाले के. चंद्रशेखर राव देश के 29वें राज्य बने तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री हैं। के. चंद्रशेखर राव आंध्र प्रदेश से अलग कर तेलंगाना राज्य का गठन करने के लिए लंबे समय तक आंदोलन चलाने वाली पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष भी हैं। 2 जून, 2014 को उन्होंने तेलंगाना के राजभवन में सीएम के पद की शपथ ली थी। इसी दिन राज्य का गठन भी हुआ था। उस्मानिया यूनिवर्सिटी से एम. ए करने वाले केसीआर ने राजनीति की शुरुआत यूथ कांग्रेस से की थी, तब संगठन के मुखिया संजय गांधी थे। हालांकि इसके बाद वह 1983 में तेलुगु देशम पार्टी से जुड़ गए। सिद्दिपेट विधानसभा सीट से 1985 में चुनाव लड़ने वाले केसीआर सन् 1999 तक लगातार 4 बार इस सीट से विधायक रहे।
के. चंद्रशेखर राव के राजनीतिक जीवन में सबसे बड़ा टर्निंग पॉइंट 2001 में आया, जब उन्होंने टीडीपी से इस्तीफा देकर तेलंगाना राष्ट्र समिति का गठन किया। इस राजनीतिक दल का उद्देश्य तेलंगाना को पूर्ण राज्य के तौर पर एक नए राज्य का दर्जा दिलवाना था। इसके बाद धीरे-धीरे पार्टी का विस्तार होना शुरू हुआ और 2004 के विधानसभा चुनाव में राव सिद्दिपेट सीट जीतकर विधायक बने और कुछ समय बाद ही करीमनगर लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर संसद पहुंचे। लेकिन 2006 में राव ने संसद से इस्तीफा दे दिया। के. चंद्रशेखर राव एक बार फिर भारी बहुमत से सांसद चुने गए। 2008 में उन्होंने अपने तीन सांसदों और 16 विधायकों के साथ फिर इस्तीफा दिया और दूसरी बार सांसद चुने गए। तेलंगाना राष्ट्र समिति का आंदोलन रंग लाया और 2014 में ठीक लोकसभा चुनाव से पहले तत्कालीन सरकार ने तेलंगाना को देश के 29वें राज्य के रूप में मान्यता दे दी। 2 जून 2014 को तेलंगाना राज्य का गठन हुआ और इसके पहले मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव बने। लेकिन 2018 के विधानसभा चुनाव में राव अपने कार्यकाल के पूरे होने से 6 महीने पहले ही इस्तीफा देकर चुनाव में चले गए जिसका उन्हें लाभ मिला और वे दोबारा जीतकर दोबारा तेलंगाना के सीएम बने। अब 2019 लोकसभा चुनाव सर पर है और राव इस चुनावी रण में भाजपा को चुनौती देने के लिए तीसरा मोर्चा बनाने की बात बड़ी मजबूती से कर रहे हैं। ऐसे में इस रण की रणनीति बनाने में राव की किस्मत उनका कितना साथ देगी, इस बारे में एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर का राव की पत्रिका का आकलन कर क्या कहना है, आइए जानते हैं।

2019 लोकसभा चुनाव के बारे में क्या कहती है के चंद्रशेखर राव की कुंडली?



नाम – के चंद्रशेखर राव
जन्म तिथि – 17 फरवरी 1954
जन्म स्थान– सिद्दिपेट
जन्म समय –10:30 सुबह

के. चंद्रशेखर राव की पत्रिका मेष लग्न और कर्क राशि की बनती है और इनका जन्म अश्लेषा नक्षत्र के चौथे चरण में हुआ है। वर्तमान में केसीआर पर राहु की महादशा व शुक्र की अंतरदशा और मंगल की प्रत्यंतर दशा चल रही है। राहु मकर राशि में कार्यक्षेत्र (राजनीति) में बैठा है। राहु राजनीतिक जीवन को सफल बनाने का प्रबल ग्रह माना जाता है। मेष लग्न वाले व्यक्ति अस्थिर होते हैं। इनके जीवन में ठहराव नहीं होता है। लग्न के स्वामी मंगल का अपने घर अष्टम में बैठना एक मंगलकारी योग बना रहा है। बुध और सूर्य राव के लाभ स्थान में बैठे हैं जो इनके लिए बुध आदित्य योग बना रहे हैं। इस योग से केसीआर को धन, पद व प्रतिष्ठा की प्राप्ति होगी। लेकिन कुंडली में चंद्रमा का ग्रहण योग बना हुआ है जिसके कारण सुख- समृद्धि होने के बावजूद भी राव का मन अशांत रहेगा और मन में चिंताएं बनी रहेंगी। राजनीतिक जीवन के लिए बृहस्पति का कार्यक्षेत्र को देखना शुभ संकेत दे रहा है। केसीआर का 29 अप्रैल 2019 तक का समय बहुत अच्छा जाने वाला है लेकिन 29 अप्रैल 2019 के बाद दशाओं में परिवर्तन हो रहा है। राहु के साथ शुक्र और राहु–शुक्र के साथ अक्टूबर तक रहने वाले हैं। जो के. चंद्रशेखर राव की राजनीतिक जीवन में उथल-पुथल मचाएंगे। इसी के चलते कुछ असफलताएं हाथ लग सकती हैं और दल में भी मतभेद बन सकते हैं। कार्यक्षेत्र का स्वामी शनि उच्च का होकर कुटुंब भाव में बैठा है जो एक जोड़नेवाला योग बनाएगा। संगठन में उठापटक होने बावजूद भी परिवार का साथ बना रहेगा। 2019 लोकसभा चुनाव केसीआर के लिए अच्छा साबित हो सकता है। इस वर्ष के लिए सूर्य व बुध का सुख के घर में बैठने से केसीआर को सुखी जीवन मिलने का योग बन रहा है। दल में तनाव के बाद भी 2019 का चुनावी परिणाम इनके पक्ष में आ सकता है।

अगर आप अपनी लाइफ की समस्याओं को लेकर ज्योतिषीय परामर्श लेना चाहते हैं तो एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से परामर्श ले सकते हैं। ज्योतिषी जी से बात करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें और हमें 9999091091 पर कॉल करें।

Talk to Astrologers

2019 लोकसभा चुनाव की प्रेडिक्शन

2019 लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद आगामी देढ़ माह में चुनावी प्रचार के दौरान नेताओं द्वारा शक्ति का खूब प्रदर्शन किया जाना है। चुनावी सभाओं में भाषण व बयानबाजी से मतदाताओं का ध्यान अकर्षित करने का प्रयास भी किया जाएगा। इस दौरान कई वादे किए जाएंगे और नेता अपनी उपलब्धि व कामों को जनता के सामने पेश करेंगे। सातों चरणों के मतदान पूरा होने तक खूब...

और पढ़ें


Chat Now for Support