मिथुन लग्न

मिथुन लग्न (Mithun Lagna), यदि आप इस लग्न के बारे में जानने के इच्छुक हैं तो आपको इस लेख को पढ़ना चाहिए। आप इसी लग्न के जातक है तो आपको यह अपने व्यक्तित्व के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने में सहायता जरूर करेगा। इस लेख में हम आपको मिथुन लग्न का वैदिक ज्योतिष में क्या महत्व है? इस लग्न का आपके व्यक्तित्व, सेहत व शारीरिक विकास पर क्या असर पड़ता है? इसके साथ इस मिथुन राशि के लिए शुभ ग्रह व अशुभ ग्रह कौन-से हैं? आपका शुभ रंग क्या है व लग्नानुसार आपको कौन सा रत्न धारण करना चाहिए?

अपनी जन्म लग्न राशि जानिए

वैदिक ज्योतिष में मिथुन लग्न

मिथुन लग्न (mithun lagna) में जन्मे है? तो इसका मतलब है कि मिथुन आपके जन्म के समय (वास्तव में इस समय) पूर्वी क्षितिज पर बढ़ रहा था। कुंडली में मिथुन राशि का उदय कहा जाता है जो आपको अपने बाहरी व्यक्तित्व के बारे में जानकारी देगा। यह आपको दूसरों को समझने के साथ-साथ जीवन में अपना रास्ता भी दिखाता है। लग्न या जन्म कुंडली का पहला घर बाहरी रूप, काया, संबंध, स्वास्थ्य आदि को इंगित करता है। एक लग्न राशि सूर्य के राशि से बहुत अलग है। लग्न प्रभावित करती है कि दुनिया आपको कैसे देखती है, आपकी पहली धारणा क्या है?

अपने कुंडली की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए अभी बात करें, देश के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से। यहां क्लिक करें।

मिथुन लग्न के जातक जन्म से ही ऊर्जावान, जिज्ञासु और मस्तीभरे होते हैं। ऐसा कहना है एस्ट्रोयोगी पंडित जी का, मिथुन लग्न इन सब पहलुओं को बखुबी दर्शाता है। इस लग्न में पैदा हुए लोग दुनिया को सीखने की जगह उसे मानते व समझते हैं। वे उन लोगों के बारे में उत्सुक होते हैं जिनके पास ज्ञान के लिए एक बड़ी भूख है। यह भूख एक धनु लग्न (धनु लग्न पेज लिंक करें) में बहुत समान है। लेकिन, प्रमुख अंतर यह है कि धनु अपने क्षितिज का विस्तार व्यापक अर्थों में करना चाहता है लेकिन मिथुन अपने सामाजिक दायरे में आगे बढ़ने के लिए ज्ञान प्राप्त करने में रुचि रखता है।

 

मिथुन लग्न के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो यहाँ में कुछ विशेष जानकारी उपलब्ध कराई गई है -

 

मिथुन लग्न जातक का व्यक्तित्व गुण

मिथुन लग्न के जातकों के पास एक उपहार है ज्ञान, यह एक अद्भुत संपत्ति है। आपका दिमाग लगातार चलायमान रहता है और आप किसी भी चीज और हर चीज के बारे में ज्यादा से ज्यादा ज्ञान हासिल करने के लिए उत्सुक रहते हैं। आप उत्सुक हैं, सवाल पूछने के लिए। आपमें खुबी है कि आप प्यार करने के लिए प्यार करते हैं। हमेशा मानसिक उत्तेजना के लिए तरसते रहने वाले, ये मिथुन लग्न जातक अपने आस-पास की गतिविधियों को पसंद करते हैं और विभिन्न प्रकार की आत्मा-उत्थान गतिविधियों में लगे रहते हैं। मिथुन लग्न जीवन को रोमांच की एक श्रृंखला के रूप में मानते हैं, और सीखने के लिए अवसर प्रदान करते हैं। उनके पास ज्ञान की भूख है। इसके अलावा ज्योतिषाचार्य का कहना है कि, आपकी त्वरित बुद्धि, और सोचने का तरीका कुछ ऐसा है जो हर लग्न जातक से मेल नहीं खा सकता है। आप आसानी से ऊब जाते हैं और एक चीज से दूसरी चीज पर हमेशा के लिए मन के अगले रोमांच की तलाश करते हैं। मिथुन को भी शारीरिक रोमांच पसंद है।

मिथुन लग्न शारीरिक विशेषता

मिथुन लग्न में जन्मे जातक सक्रिय और मजबूत होते हैं। उनके लंबे हाथ और पैर इस संकेत की कुछ अजीब शारीरिक विशेषताएं हैं। उनके पास उज्ज्वल, टिमटिमाती आंखें भी हैं। कुल मिलाकर आप एक आकर्षक शरीर के धनि होते हैं।

 

मिथुन लग्न मानसिक विशेषता

बुध को ज्योतिष में विचार और संचार का ग्रह माना जाता है। मिथुन जातक सीखना पसंद करते हैं। मिथुन लग्न जातकों का मन हमेशा सक्रिय रहता है, यहां तक ​​कि आराम भी करते हैं, तब भी आपका दिमाक चलता रहा है। आपके पास कुछ नया आविष्कार करने, विचार बनाने, समस्याओं का समाधान खोजने या किसी से बात करने के लिए किसी से मिलने की योजना बनाने के लिए हमेशा एक तीव्र विचार प्रक्रिया होती है। यह आपकी आंतरिक बेचैनी है जो दिमाग को सक्रिय और व्यस्त रखता है। मिथुन लग्न का अधिपति बुध आपको चतुर बनाता है।

 

मिथुन लग्न प्यार और संबंध विशेषता

मिथुन लग्न जातक अत्यधिक सामाजिक, चुलबुला, आवेगी होते हैं। इन्हें रोकना काफी कठिन है। ये आपको लुभाने के लिए कुछ वास्तविक आकर्षण और बुद्धि का प्रयोग कर सकते हैं। ये ऐसे सार्थक रिश्ते चाहते हैं जहाँ कल्पना हो और उन्हें उत्साहित रखने के लिए ढेर सारी बातें हों। मिथुन लग्न तुला और कुंभ राशि व अन्य वायु तत्व राशियों के लिए अनुकूल है। इन दोनों राशियों में मिथुन राशि के जातकों के समान सामाजिक, चातुर्य के साथ प्यार और उदार और आकर्षण है। संगत सूचियों में अगला है मेष, सिंह, और धनु राशि, जो मिथुन पर प्रभावकारी और प्रेरक प्रभाव डाल सकते हैं।

 

मिथुन लग्न स्वास्थ्य विशेषता

मिथुन लग्न हाथ का प्रतिनिधित्व करता है, और मिथुन लग्न अपने हाथों को शारीरिक रूप से कमजोर क्षेत्रों के रूप में पा सकते हैं। इन जातको को श्वसन संबंधी बीमारियों जैसे अस्थमा के साथ-साथ उनकी उंगलियों में समस्याओं से प्रभावित होने की संभावना रहती है। अन्य सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में शरीर में दर्द, सर्दी, छाती / फेफड़े की शिकायत और वाणी संबंधी समस्याएं शामिल हैं।

मिथुन लग्न राशि के लिए शुभ ग्रह

त्रिकोण के स्वामी शुक्र मिथुन लग्न राशि के लिए सबसे अधिक लाभकारी ग्रह हैं। अगला अनुकूल ग्रह शनि है जो 9 वें घर का मालिक है और उसे अपने मूल राशि में रखा गया है।

 

मिथुन लग्न राशि के लिए अशुभ ग्रह

सूर्य, बृहस्पति, राहु, केतु और मंगल मिथुन लग्न के लिए अशुभ ग्रह हैं। इन सबके बीच मंगल सबसे अधिक नकारात्मक है क्योंकि यह 8 वें और 11 वें घर पर शासन करता है।

 

मिथुन लग्न राशि के लिए अनुकूल रंग

हरा मिथुन लग्न जातको के लिए शुभ रंग हैं।

 

मिथुन लग्न राशि के लिए शुभ रत्न

एमराल्ड और ब्लू नीलम आपके लिए शुभ रत्न हैं।


आपकी कुंडली में कौन सा दोष है इसे जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


Chat now for Support
Support